PTB News

Latest news
जालंधर का उम्मीदवार निकला दागी, उम्मीदवार के खिलाफ उगला आप ने जहर, जालंधर : पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी करने जा रहे हैं बड़ा धमाका, "आप" "BSP" पार्टी के पैरों त... संत रामानन्द जी की शहादत को सदा रखा जाएगा याद : सुशील रिंकू जालंधर : चन्नी ने दिया दिया बड़ा ब्यान, कांग्रेस की सरकार बनने पर जालंधर के उद्योगों को दिया जाएगा बढ... एजीआई फाइव ए साइड गोल्डन फुटसल लीग चैंपियनशिप देश की सबसे बड़ी बारूद फैक्टरी में हुआ जोरदार धमाका, दस लोगों की हुई मौत, कई लोग मलबे में दबे, PM Shri Narendra Modi addresses public meeting in Jalandhar PAP Complex Punjab बड़ी ख़बर : सांसद स्वाति मालीवाल से मारपीट मामले में, CM केजरीवाल के PA बिभव कुमार को लेकर कोर्ट ने सु... दुःखद ख़बर : टीचर ने फोड़ी छात्रा की आंख, खून बहने लगा तो आंख धुलवाकर भेजा घर, अस्पताल में करवाया गया ... सावधान ! Watermelon खाने से पहले, ऐसे चैक करें,
Translate

आज से बिना MRP के बिकेगी बीयर और शराब, नई शराब नीति में सरकार ने किया बदलाव,

government-made-changes-the-new-liquor-policy-now-beer-and-liquor-will-be-sold-without-mrp

.

PTB Big न्यूज़ शिमला : पहली अप्रैल से शुरु होने वाले नए वित्त वर्ष में शराब और बीयर अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) के बिना बिकेगी। बोतल पर अब एमआरपी नहीं बल्कि न्यूनतम विक्रय मूल्य (एमएसपी) अंकित होगा। शराब और बीयर एमएसपी से अधिक दाम पर मिलेगी। नई शराब नीति में प्रदेश सरकार ने एमआरपी में बदलाव किया है। ढेरों शिकायतों के बाद सरकार ने एमआरपी खत्म करने का निर्णय लिया है।

.

.

इससे शराब के ठेकों पर सेल्जमैन और ग्राहकों के बीच विवाद भी नहीं होगा। सेल्जमैन भी शराब ठेकेदारों को चूना नहीं लगा पाएंगे। बीयर, देसी व अंग्रेजी शराब के दाम अब ठेकेदार तय करेंगे। ठेकेदार एमएसपी से नीचे शराब व बीयर नहीं बेच पाएंगे। सरकार ने नई पालिसी में अब अंग्रेजी शराब का कोटा सिस्टम भी समाप्त कर दिया है। पहले ठेकेदार का न्यूनतम व अधिकतम कोटा तय था।

.

.

न्यूनतम से कम कोटा लेने पर जुर्माना लगता था। तय से अधिक कोटा लेने के लिए आवेदन करना होता था। अब ठेकेदार अंग्रेजी शराब का जितना मर्जी कोटा ले सकते हैं। इसके लिए अनुमति नहीं लेनी होगी। साथ में तय से कम कोटा उठाने पर पेनल्टी भी नहीं लगेगी। देसी शराब का कोटा अब यूनिट स्तर पर तय किया गया है। पहले एक एक ठेके का अलग अलग कोटा तय था।

.

.

एक ठेके पर देसी शराब कम बिकने पर ठेकेदार अपने दूसरे ठेके पर स्टाक बेच सकेंगे। ग्राहकों को अब अंग्रेजी और देसी शराब पर प्राकृतिक खेती सेस देना होगा। यह सेस पहली बार लगाया गया है। देसी की बोतल पर दो और अंग्रेजी शराब की बोतल पर पांच रुपये प्राकृतिक खेती सेस तय किया गया है। बीयर को इससे बाहर रखा गया है। सरकार ने देसी,अंग्रेजी और बीयर का न्यूनतम विक्रय मूल्य भी तय कर दिए हैं।

.

.