PTB News

Latest news
जालंधर का उम्मीदवार निकला दागी, उम्मीदवार के खिलाफ उगला आप ने जहर, जालंधर : पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी करने जा रहे हैं बड़ा धमाका, "आप" "BSP" पार्टी के पैरों त... संत रामानन्द जी की शहादत को सदा रखा जाएगा याद : सुशील रिंकू जालंधर : चन्नी ने दिया दिया बड़ा ब्यान, कांग्रेस की सरकार बनने पर जालंधर के उद्योगों को दिया जाएगा बढ... एजीआई फाइव ए साइड गोल्डन फुटसल लीग चैंपियनशिप देश की सबसे बड़ी बारूद फैक्टरी में हुआ जोरदार धमाका, दस लोगों की हुई मौत, कई लोग मलबे में दबे, PM Shri Narendra Modi addresses public meeting in Jalandhar PAP Complex Punjab बड़ी ख़बर : सांसद स्वाति मालीवाल से मारपीट मामले में, CM केजरीवाल के PA बिभव कुमार को लेकर कोर्ट ने सु... दुःखद ख़बर : टीचर ने फोड़ी छात्रा की आंख, खून बहने लगा तो आंख धुलवाकर भेजा घर, अस्पताल में करवाया गया ... सावधान ! Watermelon खाने से पहले, ऐसे चैक करें,
Translate

प्रसिद्ध पंजाबी कवि और पद्मश्री पुरस्कार विजेता सुरजीत पातर का निधन,

regional-languages-activities-famous-punjabi-poet-and-padmashree-awardee-surjit-patar-passes-away

.

.

PTB Sad न्यूज़ लुधियाना : प्रसिद्ध पंजाबी लेखक और कवि सुरजीत पातर का शनिवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वे 79 वर्ष के थे. सुरजीत पातर की कविता ‘लफ्जन दी दरगाह’ बहुत ही लोकप्रिय हुई। साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए पातर को वर्ष 2012 को पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

.

.

सुरजीत पातर के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि पातर के निधन से एक युग का अंत हो गया। उन्होंने कहा, ‘प्रसिद्ध पंजाबी लेखक और कवि पद्मश्री सुरजीत पातर साहब का निधन हो गया। उनके परिवार और दुनिया भर में लाखों प्रशंसकों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना. पंजाब ने आज एक महान शख्सियत को खो दिया है। 

.

.

साहित्य अकादमी ने श्रद्धांजलि देते हुए लिखा, “यह जानना बेहद दुखद और चौंकाने वाला है कि एक प्रतिष्ठित पंजाबी कवि, अनुवादक और विद्वान सुरजीत पातर का निधन हो गया है। उनकी कविताओं ने पंजाबी साहित्य को समृद्ध किया और कवियों की आने वाली पीढ़ियों को प्रभावित किया। 

.

.

सुरजीत पातर ने पंजाबी साहित्य अकादमी के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। जालंधर के पातर कलां गांव के रहने वाले पातर लुधियाना में पंजाब कृषि विश्वविद्यालय से पंजाबी के प्रोफेसर के रूप में सेवानिवृत्त हुए। उन्होंने 60 के दशक के मध्य में कविता लिखना शुरू किया। पातर की प्रख्यात काव्य रचनाओं में ‘हवा विच लिखे हर्फ’, ‘हनेरे विच सुलगदी वरनमाला’, ‘पतझड़ दी पाजेब’, ‘लफ्जां दी दरगाह‘ और ‘सुरजमीन’ शामिल हैं

.

.