PTB News

Latest news
पुलिस कमिश्नरेट जालंधर ने रैस्टोरैंट, क्लब और लाइसेंसशुदा खाने-पीने का काम करने वालों को जारी किये स... केएमवी छात्राओं के लिए ऑटोनमस स्टेटस के तहत रिटेस्ट और तुरंत निवारण की सुविधा कर रहा प्रदान, इनोसेंट हार्ट्स स्कूल ने ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए अंग्रेजी भाषण प्रतियोगिता का क... सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी ने हवन पूजन के साथ किया शैक्षणिक सत... जालंधर उपचुनाव में बड़ी बाजी मारने वाले मोहिंदर भगत ने आज चंडीगढ़ में ली शपथ, मुख्यमंत्री भगवंत मान भी... अब इस राज्य के बेरोजगार लड़कों को मिलेंगे हर महीने 10 हजार रुपए, सरकार ने किया ऐलान, 15 अगस्त से, सभी उम्र की महिलाओं को इस राज्य के मुख्यमंत्री ने दी मुफ्त यात्रा करने की सुविधा देने क... अमेरिका जाने के चक्कर में पंजाब के युवक ने लाखों खर्च कर घूमीं पूरी दुनिया, अंत में पहुंच गया जेल, ट... पंजाब : 17 जिलों में आज से दो दिनों के लिए बारिश का मौसम विभाग ने किया येलो अलर्ट, तेज आंधी की भी दी... सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने यूनिवर्सिटी रिजल्ट में मारी बाजी...
Translate

छोटे-मोटे अपराध में अब किन लोगों की नहीं होगी सीधे गिरफ्तारी, लेनी होगी अनुमति, जाने पूरा मामला

prayagraj-permission-officers-will-taken-before-arresting-sick-and-elderly-persons

.

.

PTB Big न्यूज़ दिल्ली : छोटे-मोटे अपराध में अब बीमार और बुजुर्ग व्यक्ति की गिरफ्तारी सीधे नहीं होगी। मुकदमे की विवेचना करने वाले दारोगा या इंस्पेक्टर को गिरफ्तारी से पहले अपने उच्चाधिकारी से अनुमति लेनी होगी। इजाजत मिलने पर ही ऐसे आरोपित को गिरफ्तार कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। उच्चाधिकारी की अनुमति बिना गिरफ्तारी को वैध नहीं माना जाएगा।

.

.

वहीं, आम जनता की जानकारी को सुलभ करने के लिए थाना, जिला मुख्यालय पर ASI स्तर के अधिकारी को गिरफ्तार व्यक्तियों के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रविधान भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता की धारा 37 में किया गया है। पुलिस भी छोटे-छोटे अपराध में दबिश देकर बुजुर्ग या बीमार व्यक्ति को तत्काल नहीं गिरफ्तार कर पाएगी। किसी भी मुकदमे की विवेचना करने वाले विवेचक के लिए यह आवश्यक कर दिया गया है

.

.

कि वह 90 दिनों के भीतर विवेचना की प्रगति के बारे में वादी मुकदमा और पीड़ित व्यक्ति को बताएगा। ई-मेल या वाट्सएप के जरिए भी प्रगति के बारे में अवगत करा सकता है। इसका प्रविधान भी भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता की धारा 193 (3) में किया गया है। एक सीनियर पुलिस अधिकारी के मुताबिक नए कानून में अपराध से संबंधित मामले में बीमार या बुजुर्ग की गिरफ्तारी से पहले डिप्‍टी एसपी से अनुमति लेना आवश्‍यक होगा।

.

.

Latest News