PTB News

Latest news
पुलिस कमिश्नरेट जालंधर ने रैस्टोरैंट, क्लब और लाइसेंसशुदा खाने-पीने का काम करने वालों को जारी किये स... केएमवी छात्राओं के लिए ऑटोनमस स्टेटस के तहत रिटेस्ट और तुरंत निवारण की सुविधा कर रहा प्रदान, इनोसेंट हार्ट्स स्कूल ने ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए अंग्रेजी भाषण प्रतियोगिता का क... सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी ने हवन पूजन के साथ किया शैक्षणिक सत... जालंधर उपचुनाव में बड़ी बाजी मारने वाले मोहिंदर भगत ने आज चंडीगढ़ में ली शपथ, मुख्यमंत्री भगवंत मान भी... अब इस राज्य के बेरोजगार लड़कों को मिलेंगे हर महीने 10 हजार रुपए, सरकार ने किया ऐलान, 15 अगस्त से, सभी उम्र की महिलाओं को इस राज्य के मुख्यमंत्री ने दी मुफ्त यात्रा करने की सुविधा देने क... अमेरिका जाने के चक्कर में पंजाब के युवक ने लाखों खर्च कर घूमीं पूरी दुनिया, अंत में पहुंच गया जेल, ट... पंजाब : 17 जिलों में आज से दो दिनों के लिए बारिश का मौसम विभाग ने किया येलो अलर्ट, तेज आंधी की भी दी... सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने यूनिवर्सिटी रिजल्ट में मारी बाजी...
Translate

SC/ST Act मामला : जातिसूचक शब्द की शिकायत देने वाले पार्षद निकले झूठे, जांच में हुआ खुलासा, अब होगा 50 लाख की मानहानि का केस दर्ज,

panipat-ward-2-municipal-councillor-pawan-kumar-and-chandoli-village-ex-sarpanch-rupchand-controversy-update-sc-st-haryana-big-news

PTB Big न्यूज़ पानीपत : पानीपत शहर के बहुचर्चित मामला नगर निगम वार्ड 2 के पार्षद पवन कुमार को जातिसूचक शब्द कहने और जान से मारने की धमकी देने के दर्ज मुकदमे में बड़ा मोड़ सामने आया है। 7 माह चली जांच के दौरान DSP ने दर्ज केस को रद्द करते हुए कोर्ट में कैंसिलेशन रिपोर्ट दाखिल कर दी है। आरोप थे कि पार्षद को थाने में पूर्व सरपंच ने जातिसूचक शब्द कहे थे।

.

इसकी CCTV फुटेज पुलिस ने जब खंगाली तो खुलासा हुआ कि थाने में पूर्व सरपंच एक बार भी पार्षद से बोला ही नहीं, बल्कि वह पुलिस से मिलने के बाद कुछ ही देर में थाने से चला गया था, जिसके साथ उसका वकील साथी भी उस वक्त मौजूद था। अब पूर्व सरपंच, पार्षद सहित चारों फर्जी गवाहों पर 50 लाख की मानहानि समेत अन्य धाराओं में कार्रवाई करवाने के लिए कोर्ट में याचिका डालने की तैयारी में है।

.

एडवोकेट आजम खान ने मीडिया को बताया कि 22 अप्रैल 2023 को जावा कॉलोनी की रहने वाली एक महिला ने अपने पति, ससुर समेत ससुराल के अन्य लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, रेप व अन्य आरोपों के तहत तहसील कैंप थाना पुलिस को शिकायत दी थी। 8 मई को लड़का पक्ष ने चंदौली गांव के पूर्व सरपंच रुपचंद को फोन कर केस के मामले में थाने में बुलाया।एडवोकेट ने बताया कि पूर्व सरपंच ने जानकारी होने के नाते उसे भी थाने में बुलाया।

.

जहां लड़का पक्ष ने उन्हें बताया कि लड़की वाले उनकी प्रॉपर्टी अपने नाम करवाने के लिए ब्लैंक पेपर पर हस्ताक्षर करवा रहे हैं। जिस पर एडवोकेट ने जांच अधिकारी HC सुनीता को बताया कि जमीन संबंधित सभी काम कोर्ट में ही होते हैं, ये काम थाने में नहीं हो सकता है। एडवोकेट का कहना है कि यह बात सुनकर लड़की पक्ष की ओर से आए हुए वार्ड 2 के पार्षद पवन कुमार समेत अन्य लोग तैश में आ गए और वे बोलने लगे कि उनका काम खराब कर दिया। वरना, वे प्रॉपर्टी को लड़की के नाम करवा देते। उनका रुपचंद व एडवोकेट ने कोई जवाब नहीं दिया।

.

वे महज 10 मिनट की जांच अधिकारी व लड़का पक्ष से बातचीत करने के बाद थाने से बाहर अपने घर चले गए। करीब 1 घंटे बाद थाने से रूपचंद को थाने से फोन गया और कहा कि उनके खिलाफ पार्षद ने जातिसूचक शब्द कहने के आरोपों की शिकायत दी है।इसके बाद रूपचंद फिर से एडवोकेट आजम के साथ थाने में गया। जहां वे जांच अधिकारी से मिले और पूरी बात कहने-सुनने के बाद रात 9 बजे थाने से फिर घर चले गए। अगले दिन अखबार के जरिए पता लगा कि उस पर केस दर्ज हुआ है।

.

फिर वह SP और DSP के पास गए, लेकिन उसकी कोई मदद नहीं हुई। पूर्व सरपंच रूपचंद ने अग्रिम जमानत के लिए कोर्ट में अर्जी लगाई, लेकिन जमानत रद्द कर दी। इसके बाद मामले की शिकायत केंद्र से लेकर राज्य सरकार को दी गई साथ ही पानीपत की कोर्ट में उक्त दिन की थाना परिसर की CCTV फुटेज को सुरक्षित करने के लिए याचिका डाली गई। इसके बाद मामले की जांच लगातार पुलिस द्वारा की गई। इस मामले की जांच करते हुए DSP सिटी सतीश गौतम द्वारा थाने के CCTV कैमरे खंगाले गए,

.

जिसमें पार्षद द्वारा लगाए गए सभी आरोप झूठे साबित होने पर केस रद्द कर रिपोर्ट को कोर्ट में दाखिल किया गया। रिपोर्ट में स्पष्ट तौर पर लिखा है कि उस दिन दोनों पक्षों का थाना परिसर में कोई आपसी तालमेल हुआ ही नहीं है न ही कोई गाली-गलौज एवं जातिसूचक शब्द कहे हैं। सभी आरोप गलत साबित हुए हैं। वहीं एडवोकेट आजम खान ने मीडिया को बताया कि अब, 50 लाख की मानहानि वार्ड 2 पार्षद पवन कुमार व मामले में झूठे गवाह बने इशम पंचाल, विनोद, मोहन प्रजापत, नरेश के खिलाफ कोर्ट में दायर की जाएगी। साथ ही इसमें आईपीसी 211, 182, 499 व 500 के तहत केस दर्ज करने की भी अपील की जाएगी।

.

Latest News

Latest News