PTB News

Latest news
पुलिस कमिश्नरेट जालंधर ने रैस्टोरैंट, क्लब और लाइसेंसशुदा खाने-पीने का काम करने वालों को जारी किये स... केएमवी छात्राओं के लिए ऑटोनमस स्टेटस के तहत रिटेस्ट और तुरंत निवारण की सुविधा कर रहा प्रदान, इनोसेंट हार्ट्स स्कूल ने ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए अंग्रेजी भाषण प्रतियोगिता का क... सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी ने हवन पूजन के साथ किया शैक्षणिक सत... जालंधर उपचुनाव में बड़ी बाजी मारने वाले मोहिंदर भगत ने आज चंडीगढ़ में ली शपथ, मुख्यमंत्री भगवंत मान भी... अब इस राज्य के बेरोजगार लड़कों को मिलेंगे हर महीने 10 हजार रुपए, सरकार ने किया ऐलान, 15 अगस्त से, सभी उम्र की महिलाओं को इस राज्य के मुख्यमंत्री ने दी मुफ्त यात्रा करने की सुविधा देने क... अमेरिका जाने के चक्कर में पंजाब के युवक ने लाखों खर्च कर घूमीं पूरी दुनिया, अंत में पहुंच गया जेल, ट... पंजाब : 17 जिलों में आज से दो दिनों के लिए बारिश का मौसम विभाग ने किया येलो अलर्ट, तेज आंधी की भी दी... सेंट सोल्जर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने यूनिवर्सिटी रिजल्ट में मारी बाजी...
Translate

Schools में छुट्टियां, लेकिन School Teachers के लिए खड़ी है अभी तक मुसीबत, पढ़ें पूरी खबर,

punjab-school-teachers-holiday-big-news

.

PTB Big न्यूज़ जालंधर / लुधियाना : सरकार के स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा भीषण गर्मी में बच्चों की सेहत का हवाला देते हुए सभी स्कूलों में छुटि्टयां तो घोषित कर दी गई हैं, लेकिन निजी स्कूलों के अध्यापकाें पर छुटि्टयों के आदेश लागू होंगे या नहीं, इस बात को लेकर शहर के सभी प्रिंसीपल असमंजस में घिरे हुए हैं। कई स्कूल प्रिंसीपलों ने स्टाफ को स्कूल बुलाया और बुधवार को भी कइयों ने अध्यापकाें को बुलाया लिया।

.

.

मिली जानकारी के अनुसार स्कूल प्रिंसीपलों का कहना है कि सरकार ने तो एकदम से छुटि्टयों के आदेश जारी कर दिए, लेकिन एकाएक जारी आदेशों के बाद स्कूलों के कई काम लटक गए हैं। अगर अध्यापकाें को नहीं बुलाया जाएगा तो 31 मई तक कोई पैंडिंग कार्य नहीं हो पाएगा। स्कूल प्रिंसीपलों के बने विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुपों में इस बात की चर्चा रही कि सरकार के आदेशों में अध्यापकों बारे कोई स्पष्ट निर्देश नहीं हैं इसलिए अध्यापकों को बुलाया जा सकता है या नहीं।

.

.

स्कूलों को इस बात का भी डर सता रहा है कि अगर अध्यापकों को बुला लिया तो कहीं विभागीय आदेशों की अवहेलना न हो जाए। ऐसे में स्कूल खुलने के बाद विभागीय नोटिसों का जवाब भी देना पड़ेगा, हालांकि इस बारे विभिन्न प्रिंसीपलों की अपनी-अपनी राय है लेकिन यह भी जानकारी मिली है कि बुधवार को शहर के कई नामी स्कूलों के प्रिंसीपलों ने जिले के अधिकारीयों से मुलाकात करने का प्लान भी बनाया है

.

.

ताकि सारी स्थिति स्पष्ट हो सके। उधर शिक्षा विभाग के अधिकारियों का तर्क है कि अगर सरकारी स्कूूल अध्यापकों को नहीं बुला रहे तो निजी स्कूलों को भी नहीं बुलाना चाहिए, लेकिन जिन निजी स्कूलों में चुनावों के लिए बूथ बने हैं, उनके स्टाफ के संबंधित कुछ सदस्यों को चुनावों तक स्कूल में मौजूद रहना जरूरी है ताकि चुनावों के कार्य में विलंब न हो सके। ऐसे में अब देखना यह होगा की स्कूलों के अध्यापकों को कब छुट्टी मिलेगी।

.

.

.

Latest News