PTB News

Latest news
के.एम.वी. में करियर प्रोस्पेक्ट्स इन डिफेंस: फ्यूचर अहेड विषय पर एक्सटेंशन लेक्चर आयोजित, सेंट सोल्जर इंटर कॉलेज, जालंधर के छात्रों ने पीएसईबी कक्षा दसवीं के नतीजों में ग्रुप का नाम किया रोश... एच.एम.वी. की साक्षी एम.ए. हिन्दी तृतीय सेमेस्टर में यूनिवर्सिटी में प्रथम, डिप्टी कमिश्नर ने किया PAP चौंक का निरिक्षण, NHAI के अधिकारियों को दिए आदेश, सेंट सोल्जर डिवाइन पब्लिक स्कूल, न्यू मॉडल हाउस, जालंधर में विश्व विरासत दिवस मनाया गया, इनोसेंट हार्ट्स में 'हेरीटेज क्लब' के विद्यार्थियों ने 'साडा गौरव - सांडा विरसा' थीम के तहत मनाया 'व... पंजाब में तीन साल की मासूम बच्ची को जिंदा दफनाने वाली महिला को अदालत ने सुनाई फांसी की सजा, के.एम.वी. में आई.पी.आर. तथा आई.पी. मैनेजमेंट फॉर स्टार्टअप्स विषय पर अंतरराष्ट्रीय वर्कशॉप आयोजित, एच.एम.वी. की यूबीए टीम ने आहार क्रांति : उत्तम आहार-उत्तम विचार वर्कशाप में लिया भाग, आईवी वर्ल्ड स्कूल में "ट्रैश टू ट्रेज़र" गतिविधि का आयोजन,
Translate

पंजाब, 300 से ज्यादा फार्मासिस्ट विजिलेंस विभाग की रडार में, पढ़ें हैरान कर देने वाला मामला,

more-than-300-pharmacists-on-vigilance-radar-in-punjab-big-news

.

PTB Big न्यूज़ पंजाब : पंजाब में इन दिनों के खबर खूब चर्चा का विषय बनी हुई है। मिली जानकारी के अनुसार कई फार्मासिस्ट अब विजिलेंस की रडार पर हैं। खबर के अनुसार पंजाब में डी-फार्मेसी के फर्जी डिग्री घोटाले में अब विजिलेंस टीम फर्जी डिग्री हासिल करने वाले छात्रों की सूची बनाने में जुट गई है, जिससे डी फार्मेसी घोटाले की परतें खुलने लगी हैं।

.

.

विजिलेंस के एआईजी की अध्यक्षता वाली एसआईटी को अब तक 300 से ज्यादा फर्जी डिग्रियों की जानकारी मिली है। गौरतलब है कि देशभर के 8 संस्थानों से फर्जी डिग्री हासिल कर सैकड़ों लोग कई सालों से सरकारी विभागों में नौकरी कर रहे हैं। विजिलेंस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि फर्जी सर्टिफिकेट/डिग्री पाने वालों की संख्या एक हजार से भी ज्यादा हो सकती है। बताया जा रहा है कि विजिलेंस ने अपनी जांच में 20 संस्थानों की पहचान की जिनके खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा।

.

.

इनके मालिकों पर कार्रवाई होगी। इन संस्थानों के 2005 से 2022 तक के पूरे डी-फार्मेसी रिकॉर्ड की जांच की जाएगी कि कब लोगों ने डी-फार्मेसी संबंधी प्रमाणपत्र जारी किए हैं। बताया जा रहा है कि इनके ऊपर आरोप है कि इन्होंने मोटी रकम लेकर दूसरे राज्यों के फर्जी सर्टिफिकेट जारी किए जिसके आधार पर युवा पंजाब में दवा का कारोबार कर रहे हैं। डी-फार्मेसी के 17 साल के रिकॉर्ड की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

.

.

वहीं विजिलेंस जांच अधिकारियों का कहना है कि डी-फार्मेसी से संबंधित सरकारी नौकरी चाहने वालों के लिए कब रिक्तियां जारी की गईं, किन विभागों में संबंधित योग्यता के साथ भर्ती के लिए विज्ञापन दिया गया, इन सभी की जांच की जाएगी। यह सर्टिफिकेट लेने वालों को दवाओं के बारे में ठोस और पूरी जानकारी नहीं होती है। लोगों के रिकॉर्ड की भी जांच शुरू कर दी है, जिन्होंने फर्जी दस्तावेज तैयार कर सरकारी नौकरी हासिल की है। एआईजी की अध्यक्षता वाली एसआईटी इस मामले की जांच कर रही है।

.

.

.

Latest News